स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार / News

हैरत : वैक्सीन पर वैक्सीन लेकिन कोई दुष्प्रभाव नहीं

नयी दिल्ली (स्वस्थ भारत मीडिया)। जर्मनी के 62 साल के एक शख्स ने 216 से ज्यादा बार COVIND-19 वैक्सीन का टीका लगवा लिया। लेकिन हैरानी यह कि इसके बाद भी उसके शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं हुआ। इतनी वैक्सीन उसने 29 महीने के दौरान ली। द लैंसेट इंफेक्शियस डिजीज जर्नल के मुताबिक एर्लांगेन-नुरेमबर्ग विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने उस व्यक्ति पर अध्ययन लिया। उस शख्स के खून और लार के नमूने लिए गये। लेकिन हाइपर-वैक्सीनेशन के बाद भी शख्स को कोई साइड इफेक्ट नहीं हुआ जो वैज्ञानिकों के लिए सबसे आश्चर्यजनक बात है।

बिना धड़कन जिंदा रह गया एक महीने से ज्यादा

दिल के बिना किसी के जीने की उम्मीद नहीं की जा सकती। लेकिन एक इंसान बिना धड़कन के एक महीने से भी ज्यादा समय तक जिंदा रहा था। उसे दुनिया का पहला ‘हार्टलेस’ इंसान कहा जाता है। लैडबाइबल नामक वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक 2011 में टेक्सास हार्ट इंस्टीट्यूट के दो डॉक्टरों ने एक ऐसा उपकरण बनाया था जो दिल की धड़कन के बिना भी इंसान को जिंदा रख सकता था। इन दोनों डॉक्टरों ने इसका प्रयोग पहले एक आठ महीने के बछड़े पर किया। फिर 38 बछड़ों पर इसका प्रयोग किया गया जो सफल रहा। बाद में डॉक्टरों ने इसका प्रयोग 55 साल के क्रेग लुईस पर किया। वे अमाइलॉइडोसिस नाम की बीमारी से पीड़ित थे जिसमें हर जरूरी अंग खुद निष्क्रिय होने लगते हैं। उनके 12 घंटे से ज्यादा जीने की संभावना नहीं थी। डॉ. कोहन और डॉ. फ्रैजियर ने उनका क्षतिग्रस्त हार्ट निकालकर उसकी जगह पर कृत्रिम उपकरण लगा दिया। इससे वे धीरे-धीरे ठीक होते-होते एक महीने से अधिक समय तक जीवित रहने में कामयाब रहे।

Related posts

महिला वैज्ञानिकों को विशेष अनुसंधान अनुदान देगा CSIR : डॉ. जितेंद्र सिंह

admin

एम्स का कमाल, लगा दिया ब्रेन के अंदर QR कोड

admin

प्रवासी मजदूरों की व्यथा पर बोले के.एन.गोविन्दाचार्य, जीडीपी ग्रोथ रेट के आंकड़ों से भारत आर्थिक महाशक्ति नहीं हो सकता

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment