स्वस्थ भारत मीडिया

Category : चिंतन

Uncategorized चिंतन मन की बात विमर्श

सीमित संसाधन असीमित जनसंख्या यानी दुःख को बुलावा

आशुतोष कुमार सिंह
हमारे चेयरमैन आशुतोष कुमार सिंह की अगुवाई में एक दल ने देश के 29 राज्यों में जाकर एक लाख से ज्यादा बालिकाओं से प्रत्यक्ष संवाद किया है। हम चाहते हैं कि इस देश की पूरी आबादी खासतौर से आधी आबादी को प्रजनन संबंधी विषयों के बारे में विस्तार से अवगत
SBA विशेष चिंतन विमर्श समाचार

समाज चाहे तो कुपोषण पर पोषण की होगी जीत

swasthadmin
कुपोषण से निपटने के लिये केन्द्र और राज्यों के बीच सभी योजनाओं में समन्वय बेहद जरूरी है। यूनिसेफ की प्रोग्रेस फॉर चिल्ड्रेन रिपोर्ट में चेतावनी देते हुए कहा गया है कि गर नवजात शिशु को आहार देने के उचित तरीके के साथ-साथ स्वास्थ्य के प्रति कुछ सामान्य सावधानियां बरती जाएं
Front Line Article SBA विशेष चिंतन मन की बात

Featured जलवायु परिवर्तनःस्वस्थ समाज के लिए खतरा

swasthadmin
समुद्र का बढ़ता स्तर और बढ़ती चरम मौसम घटनाएं घरों, चिकित्सा सुविधाओं और अन्य आवश्यक सेवाओं को नष्ट कर देंगी। दुनिया की आधी से अधिक आबादी समुद्र के 60 किमी के दायरे में रहती है। लोग स्थानांतरित होने के लिए मजबूर होंगे, जो मानसिक विकारों से लेकर संचारी रोगों तक
चिंतन मन की बात

स्वस्थ भारत के लिए जरूरी है गौसंरक्षण

swasthadmin
गाय के स्वास्थ्य संबंधी पहलू इतने ज़्यादा महत्वपूर्ण है कि अगर एक बार इसे समझ जाएँ तो धार्मिक पक्ष आड़े नहीं आयेगा। अंग्रेजों ने भारत को बीमार करने और संसाधनों की लूट में ऐसा जहर बोया कि गाय के व्यापारिक पक्ष एवं गुंडा तत्व ने अन्य लाभ पीछे करवा दिये।
चिंतन मन की बात विविध

 विश्व माहवारी स्वच्छता दिवस पर विशेष: माहवारी है ईश्वर की सौगात , इस पर करें हम खुलकर बात

swasthadmin
नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (NFHS) की रिपोर्ट आई है जिसके आंकड़े चौंकाने वाले हैं। देश में आज भी 62 प्रतिशत लड़कियां और महिलाएं पीरियड्स के दौरान कपड़े का इस्तेमाल करती हैं। इस सर्वे में 15 से 24 आयु वर्ग की महिलाओं को शामिल किया गया था। कई राज्यों में तो
Front Line Article SBA विशेष चिंतन फार्मा सेक्टर विमर्श स्वस्थ भारत अभियान

स्वस्थ भारत (न्यास) का तृतीय स्थापना दिवस के अवसर पर होगी जेनरिक दवाइयों की बात, मुख्य अतिथि विपल्व चटर्जी का होगा उद्बोधन

swasthadmin
गौरतलब है कि स्वास्थ्य की दिशा में स्वस्थ भारत पिछले 3 वर्षों से लगातार काम कर रहा है। पिछले वर्ष स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज का संदेश देने के लिए 21000 किमी की ‘स्वस्थ भारत यात्रा’ स्वस्थ भारत ने की थी। 2016 में स्वस्थ भारत की यूनर्जी टीम ने समुद्र के
चिंतन

कैंसर-मरीज के नाम पर कहीं आपको लूटा तो नहीं जा रहा!

swasthadmin
मैंने कहा कोई 1लाख ऐसे ही तो नहीं दे देगा न जिसे मदत की जरुरत है मैं उसे डायरेक्ट दू तो मुझे ज्यदा ख़ुशी मिलेगी। मै पैसे के मामले में बहुत बड़ा झटका खा चूका था इसलिये किसी और पे भरोषा नहीं कर सकता था आशूतोष जी आप जानते है।
SBA विशेष काम की बातें चिंतन

साहब! एड्स नहीं आंकड़ों का खेल कहिए…

आज चारों ओर बाजार का दबदबा है। उसने हमारे मनोभाव को इस कदर गुलाम बना लिया है कि हम उसके कहे को नकार नहीं पाते। वह जो कहता है, वही जीवन-आधार और सुख का मानक हो जाता है! इसी बाजार ने एक बीमारी दी, जिसको वर्तमान में एड्स के नाम
चिंतन चौपाल

…तो हमारे अधिकारी चाहते हैं कि आंकड़ों में एड्स बना रहे !

swasthadmin
इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता की भारत जैसे देश में एचआईवी / एड्स की स्थिति सामान्य है पर स्थिति आउट ऑफ़ कंट्रोल है ऐसा भी नहीं। कई ऐसी भी बीमारियां है जो एड्स से ज्यादा जान लेती है। आज कुपोषण से सबसे ज्यादा बच्चे मर रहे है।
चिंतन चौपाल

डिजिटल इंडिया को कुपोषण की चुनौती …

डिजिटल होने जा रहे इंडिया का एक खौफ़नाक सच हैं कुपोषण...राजस्थान के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो बेहद शर्मनाक स्थिति सामने आ रही हैं। 1179 करोड़ रूपयों के वार्षिक खर्च के बावजूद प्रति हजार में से 74 बच्चे पांच साल से पहले ही कुपोषण के कारण अकाल मौत का
swasthbharat.in में आपका स्वागत है। स्वास्थ्य से जुड़ी हुई प्रत्येक खबर, संस्मरण, साहित्य आप हमें प्रेषित कर सकते हैं। Contact Number :- +91- 9891 228 151