स्वस्थ भारत मीडिया
मन की बात / Mind Matter

सियासत कीजिए लेकिन श्रमिकों के साथ नहीं

 पिछले दिनों बस भेजने न भेजने को लेकर प्रियंका गांधी और योगी सरकार आमने-सामने थी। इस राजनीति को श्रमिकों को नुकसान पहुंचाने वाला बता रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार आदर्श प्रकाश सिंह

एसबीएम/ मन की बात
आदर्श प्रकाश सिंह, वरिष्ठ पत्रकार

उत्तर प्रदेश में प्रवासी श्रमिकों को उनके गांव घर तक पहुंचाने के लिए योगी सरकार सारे जतन कर रही है। कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन के दौरान सबसे ज्यादा पीड़ित ये मजदूर ही हैं। इनके सामने एक तरफ कुआं है तो दूसरी तरफ खाई। टीवी पर या अखबारों में इन श्रमिकों की व्यथा देख कर किसी का भी मन द्रवित हो जाएगा। कोई हैदराबाद से बाइक से चल कर गोरखपुर जा रहा है तो कोई मुंबई से पैदल चल पड़ा है।
इनका दर्द कम करने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने एक हजार बसों की व्यवस्था करने का प्रस्ताव यूपी सरकार के सामने रखा। बात आगे बढ़ी लेकिन सियासत की भेंट चढ़ गई। यूपी सरकार ने इतने किन्तु-परन्तु लगा दिए कि प्रियंका की योजना परवान नहीं चढ़ सकी। यदि यह मान लें कि कांग्रेस ने वाहनों के जो नंबर यूपी सरकार को दिए उनमें कई फर्जी थे तो भी जो बसें वैध थीं उन्हें चलाने की इजाजत क्यों नहीं दी गई। राजस्थान से बसें आकर यूपी सीमा पर खड़ी थीं लेकिन योगी सरकार ने अनुमति नहीं दी। सीएम योगी आदित्यनाथ की कर्तव्यपरायणता में किसी को संदेह नहीं है। वह इस संकट काल में एक संन्यासी की तरह जनता की सेवा कर रहे हैं। मगर उन्होंने इस मामले में दरियादिली दिखाई होती तो उनका सम्मान और बढ़ जाता। कांग्रेस के पास फिर कुछ बोलने को रहता ही नहीं। मजदूरों की सेवा में राजनीति का तड़का लगाना उचित नहीं।
उधर कोटा से छात्रों को यूपी सीमा तक भेजने के लिए राजस्थान सरकार ने बसों का 36 लाख से अधिक का जो बिल यूपी सरकार को भेजा है उससे दोनों राज्यों में कड़वाहट बढ़ गई है। जन कल्याण का दंभ भरने वाली सरकारें यदि मेरा-तेरा करेंगी तो जन सेवा का भाव कहां रह जाएगा ? प्रश्न विचारणीय है।

यह भी पढ़ें 

बिहार में बहार लाने की चुनौती
आत्महत्या कर रहे हताश-निराश-मजबूर मजदूरों को समझना-समझाना जरूरी
मत बख्शों लॉकडाउन नियमों को तोड़ने वालों को
प्राकृतिक संतुलन को बिगाड़ेगा पर्यावरण प्रभाव निर्धारण प्रकिया में बदलाव
कोरोना-कालः हम सीख जाएंगे साफ सफाई

Related posts

कला और संस्कृति को संवर्धित करती नई शिक्षा नीति

admin

कोरोना: चुनौती नहीं अवसर है

Ashutosh Kumar Singh

हिंदी पत्रकारिता दिवस पर विशेष: क्यों बचेंगे अखबार

admin

Leave a Comment