स्वस्थ भारत मीडिया
समाचार Front Line Article

स्वास्थ्य पत्रकारिता और शोध के लिये पांच युवाओं को ‘स्वस्थ भारत मीडिया सम्मान-2019’

'Healthy India Media Award-2019' to five youth for health journalism and research

नई दिल्ली. स्वास्थ्य विषय में पत्रकारिता और शोध करने वाले देश के पांच युवाओं को 2019 का ‘स्वस्थ भारत मीडिया सम्मान’ प्रदान किया जाएगा. इसके तहत मीडिया प्राध्यापक डॉ. रामशंकर, वरिष्ठ पत्रकार विनीत उत्पल, शोधार्थी कमल किशोर उपाध्याय, लेखक डॉ. उत्सव कुमार सिंह और प्राध्यापक प्रभांशु ओझा को 03 अक्तूबर, 2019 को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान में सम्मान प्रदान किया जायेगा. इस कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र के अध्यक्ष पदमश्री रामबहादुर राय करेंगे. इस आशय की घोषणा स्वस्थ भारत (न्यास) के चेयरमैन आशुतोष कुमार सिंह ने की. उन्होंने बताया कि यह सम्मान स्वास्थ्य संबंधी विषयों को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर कार्यरत ‘स्वस्थ भारत मीडिया’ ने अपने पोर्टल ‘स्वस्थ भारत डॉट इन’ के पांच वर्ष पूर्ण होने के अवसर देने की घोषणा की है. वर्ष 2019 का स्वस्थ भारत मीडिया सम्मान ऐसे पांच लेखकों, मीडियाकर्मियों या शोधार्थियों को दिया जाएगा, जिन्होंने सेहत विषयक शोध लेख, आलेख या पुस्तक लिखे हैं.

स्वस्थ भारत मीडिया के आयोजन में वरिष्ठ मीडियाकर्मी रहेंगे उपस्थित

आशुतोष सिंह ने बताया कि सम्मान के मौके पर राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन 03 अक्तूबर, 2019 को गांधी शांति प्रतिष्ठान, आईटीओ, नई दिल्ली में शाम पांच बजे से किया जा रहा है, जिसके तहत ‘स्वास्थ्य पत्रकारिता दशा एवं दिशा’ विषय पर विभिन्न वक्तागण अपनी बात रखेंगे. इस परिसंवाद में बतौर मुख्य वक्ता भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) के पूर्व महानिदेशक श्री के.जी. सुरेश और वरिष्ठ अतिथि वरिष्ठ पत्रकार प्रो. अनिल निगम और डॉ. प्रमोद सैनी होंगे. इस कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली पत्रकार संघ के सहयोग से किया जा रहा है.

गौरतलब है कि स्वस्थ भारत एक न्यास (ट्रस्ट) के रूप में पंजीकृत संस्था है। इसका मुख्य उद्देश्य है देश में स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर जागरूकता लाना। इसके लिए ट्रस्ट विभिन्न तरह गतिविधियों के माध्यम से जनसमान्य के बीच पहुंचने का प्रयास कर रहा है और मुख्यतः संचार के माध्यम से इन विषयों की समझ आम नागरिकों में विकसित करने की कोशिश कर रहा है। इसके लिए जनसंचार और व्यक्तिशः संचार दोनों ही रूपों में काम कर जन सामान्य को जागरूक करने के अलावा स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े विभिन्न हितधारकों के बीच इस विषय पर विमर्श तथा स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में यथासंभव अंशदान का प्रयास भी करता है।

Related posts

28 सितंबर को लखनऊ में फार्मासिस्टों की महारैली

Vinay Kumar Bharti

Grants for new ideas to improve women and child health

swasthadmin

दिव्‍यांगजनों को मुख्‍यधारा में लाया जाना चाहिए : थावरचंद गहलोत

Leave a Comment