स्वस्थ भारत मीडिया
कोविड-19 / COVID-19 नीचे की कहानी / BOTTOM STORY समाचार / News

जानें कैसे कोरोना के प्रसार से बची हुई है रावण की नगरी!

आयुर्वेद ही है कोविड-19 का समाधानकोविड-19 तीसरे विश्व युद्ध का कारण न बन जाए !दूरदर्शन पर प्रसारित हो रहे रामायण का प्रमुख खल पात्र रावण का देश कोरोना से शानदार तरीके से लड़ रहा है। श्रीलंका सरकार ने कोरोना को बढ़ने से रोक रखा है।

 

मनीषा शर्मा

दूरदर्शन पर प्रसारित हो रहे रामायण का प्रमुख खल पात्र रावण का देश कोरोना से शानदार तरीके से लड़ रहा है। श्रीलंका सरकार ने कोरोना को बढ़ने से रोक रखा है। अबतक श्रीलंका में महज 207 मामले सामने आए हैं। 26 फीसद लोग ठीक भी हो चुके हैं। 7 लोगों की जान गई है। 217 केस और उसमें भी 56 लोगों का ठीक हो जाना यह बताता है कि रावण के इस देश ने कोरोना से लड़ने की बेहतरीन नीति बनाई है।

जनवरी में आया था पहला मामला

ध्यान देने वाली बात यह है कि श्रीलंका में कोविड-19 का पहला मामला 27 जनवरी, 2020 को सामने आया था। एक 40 वर्षीय महिला में यह वायरस पाया गया था। संक्रमित महिला चीनी पर्यटक थी जो चीन के हुबेई प्रांत से पर्यटक के रूप में श्रीलंका आई थी।  रिपोर्ट्स के अनुसार 31 मार्च को सबसे ज्यादा पॉजिटिव मामलो (21) की पुष्टि हुई थी। उसके बाद श्रीलंका के लोगों ने अपने सरकार के प्रत्येक निर्देश का पालन किया। जिसका नतीजा आज दुनिया के सामने है।

इस पड़ोसी देश से सीखें कोरोना से जीतने की तरकीब

श्रीलंका की कोरोना-नीति

श्रीलंका ने कोरोनावायरस जैसे गंभीर महामारी से बचाव के लिए त्वरित कदम उठाए। उसने कोरोना वायरस से बचाव के लिए देश में कर्फ्यू लागू किया है। इसका सख्ती के साथ पालन भी करवाया जा रहा है। साथ ही श्रीलंकन सरकार ने चीनी नागरिकों को वीजा देने पर रोक लगा दी है। सरकार ने साफ कर दिया है कि वीजा लेने के लिए पूरी प्रक्रिया का पालन करना होगा। इस देश में आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर भी रोक लगा दी गयी है। इस तरह श्रीलंका ने अंतरराष्ट्रीय गाइडलाइनों को अपने देश के अनुसार बेहतरीन तरीके से लागू किया है। जिसका परिणाम आज हमारे सामने है। वहां के 26 फीसद कोरोना-मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं।

Must Read कोरोना से कैसे बच गया भूटान!

इस देश को जरा जान लें

श्रीलंका दक्षिण एशिया का बड़ा टूरिस्ट प्लेस है। ऐसे में यहां बड़ी संख्या में विदेशी लोग आते जाते रहते हैं। इसके बाद भी यहां की स्थिति उतनी गंभीर नहीं है जितनी कि अन्य देशों की है। इसका एक प्रमुख कारण यहां की शिक्षा भी है। दो करोड़ आबादी वाले श्रीलंका में 92 फीसद लोग साक्षर हैं। श्रीलंका भारत के जैसा ही एक लोकतांत्रिक देश है। इस देश की जनसंख्या 2,13,93,238 है। विश्व के जनसंख्या का 0.27% फीसद लोग यहां निवास करते हैं। यहां का क्षेत्रफल 62710 वर्ग किलोमीटर है।

जानिए भारत का यह पड़ोसी देश कैसे कोरोना से बच गया

एशिया का दूसरा सबसे अमीर देश है श्रीलंका

श्रीलंका शिक्षा के मामले में बेमिसाल है। साक्षरता के साथ श्रीलंकन लोग एशिया के सबसे पढ़े-लिखे लोगों में शुमार हैं। श्रीलंकन लोग साक्षरता में ही नहीं बल्कि कमाई में भी कई देशों से आगे हैं। इसलिए यहां प्रति व्यक्ति जीडीपी के लिहाज से देखें तो यह एशिया का दूसरा सबसे अमीर देश है।

यह भी पढ़ें… आइए भारतीयताका दीप हम भी जलाएं

यह भी पढ़ें…  प्रसव वेदनाके दौड़ में वैश्विक समाज

इसे भी पढ़ें… डरने की नहीं, कोरोना से लड़ने की है जरूरत

 

Related posts

बिना ब्लड ट्रांसफ्यूजन के हुआ मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट

admin

मुद्रा योजना से मिलेगा जनऔषधि को नया मुकाम

Ashutosh Kumar Singh

ताकि लखनऊ में कोई बेजुबान कोविड-19 के कारण भूखा न रहे…

Ashutosh Kumar Singh

Leave a Comment